विस्टा कंपनी का महा नदी में रेत का अवैध उत्खनन

Publish Date : 22 / 01 / 2021


सत्ता सुधार। कटनी
कटनी जिले की पहचान सिर्फ चूने और मार्बल से नही अब रेत उत्खनन से भी होने लगी है झ्र जी हां यह वही जिला है जहां के पुलिस कप्तान ललित शाक्वार का तबादला इसलिए कर दिया गया क्योंकि कटनी के पत्रकार ने मुख्यमंत्री को कटनी में चल रहे अवैध रेत का उत्खनन की शिकायत ट्वीट कर दिया था , जिससे नाराज सी.एम .ने भरी सभा यानि विडियो कांफ्रÞेंसिंग में सबके सामने पुलिस कप्तान को फटकार लगा कर जिले से बेदखल कर दिया था । लेकिन यह सब महज तमाशा था । ताकि जनता यह मान ले कि सूबे के मुखिया को अपने राज्य और संपदा की बेहद चिंता है , लेकिन असल माजरा क्या है यह हम आपको दिखाएंगे भी और बताएंगे भी ।
अब देखिए इस नजारे को जो सी.एम .के नाराजगी के बाद कटनी जिले की शोभा बढाती नजर आ रही है झ्र जी हां ये तस्वीरें इस बात की तस्दीक करती हैं कि सूबे के मुखिया की नाराजगी और पुलिस कप्तान के तबादले के बाद कितना बदलाव आया है । ये नजारा है कटनी के बड़वारा थाना क्षेत्र के लाल पुर घाट का - जहां नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के गाईड लाईन और मध्य प्रदेश पर्यावरण सिया की शर्तों की धज्जियां उड़ती नजर आ रही है।
 आप खुद देखिए इस नजारे को जिसमें दो पोकलिन मशीनों के जरिए रैंप बना कर नदी की छाती को छलनी करने का काम किया जा रहा है । यह सब तो तब भी हो रहा था जब ललित शाक्यवार कटनी के एस .पी. थे फिर उनके तबादले से बदल क्या गया यह भी एक बड़ा सबाल है । खैर मुख्यमंत्री ने कटनी में चल रहे इस तरह के अवैध गोरखधंधों से परेशान होकर कट्नी के पुलिस कप्तान से पहले कलेक्टर का भी रास्ता नाप दिया था लेकिन हासिल आई शून्य जी हां कटनी के पूर्व कलेक्टर शशिभूषण सिंह के बाद कटनी की कमान सम्भालने पहुंचे कटनी के मौजूदा कलेक्टर प्रियंक मिश्रा भी इस तरह के मामलों में कुछ खास कर पाते तो ऐसी तस्वीरें आपके सामने नही आ पातीं झ्र लेकिन साहब करें भी तो क्या और कैसे झ्र ये रेत खदान बिस्टा कंपनी की है जिसके रसूख के आगे सरकार भी नतमस्तक है, वरना जिले के चंद पत्रकारों को यह तमाम कारगुजारी दिख जाती और हजारों की तादाद में शासकीय कर्मचारियों को यह सब कुछ नजर क्यों नही आता ? इस तरह के तमाम सवाल हैं जो इस बात की तस्दीक करते हैं कि जिले में चल रहे अवैध रेत के कारोबार को रोकना सरकार और उसके नुमांईदों के बूते की बात नही है। खास बात ये कि पानी पी कर सरकार को कोसने वाले क्षेत्र के विधायक को भी नही पता है कि उनके ईलाके में इतने बड़े पैमाने पर अवैध रेत का उत्खन चल रहा है । आप खुद सुनिए ईलाके के विधायक विजय राघवेन्द्र सिंह की जुबानी जो बड़ी मासूमियत से यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि उन्हें इस बात की भनक भी नही है कि ईलाके में हो क्या रहा है । अलबत्ता मौजूदा सरकार को कोसने में विधायक जी ने कोई कोर कसर नही छोड़ी है ।

Like & Share

अन्य खबरे

Epaper

Epaper

लाइव पोल

2019 में कौन होंगे प्रधानमंत्री?

नरेन्द्र मोदी
राहुल गांधी
अर्विन्द केजरिवाल