हठधर्मिता और बेशर्मी पर टिकी है मोदी सरकार: गोविंद सिंह

Publish Date : 03 / 01 / 2021

सत्ता सुधार।मुरैना
केंद्र की एनडीए सरकार द्वारा किसानों पर थोपे गए कृषि अध्यादेश के विरोध में देश भर में चल रहे आंदोलन को लेकर कांग्रेस के नेतृत्व में रविवार को जिले भर के किसान एकत्रित हुए और तीनों काले कानूनों को लेकर आक्रोश जाहिर कर मोदी सरकार से उन्हें रद्द करने की मांग की। इस अवसर पर पूर्व मंत्री मप्र डॉ गोविंद सिंह एवं रामनिवास रावत प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार हठधर्मिता एवं बेशर्मी पर अड़ी हुई है। आधा सैकड़ा किसानों की मौत हो चुकी है, लेकिन उनकी चिंता करने के बजाय मोदी सरकार अपने मित्रों से दोस्ती निभाने में लगी हुई है।
महात्मा गांधी आस्था मंच एवं एवं अनुसूचित जनजाति जागरण मंच के जनडेल सिंह सिकरवार सरसैनी एवं रामहेत पिप्पल द्वारा आयोजित कायक्रम के मार्गदर्शक पूर्व विधायक सूबेदार सिंह सिकरवार एडवोकेट ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बोल किसान बोल, मोदी राज पर हमला बोल तथा प्रत्येक गांव व घर से किसान काले कृषि कानून के विरोध में आकर अपने हक की लड़ाई लड़ें। उन्होंने कहा कि अगर अभी नहीं जागे तो आप की खेती पूंजीपतियों के हाथ में चली जाएगी तथा प्रदेश की सभी मंडियों समाप्त हो जाएंगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा किसानों गरीबों की पार्टी रही है और जनता के सुख-दुख में साथ दिया है, लेकिन मोदी सरकार पूंजीपतियों की शुभचिंतक है और उन्हें फायदा पहुंचाने के लिए देश की जनता का गला घोट रही है।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने कहा कि मोदी सरकार द्वारा किसानों पर थोपे गए काले कानून से हरियाणा, पंजाब ही नहीं पूरे देश के किसानों का नुकसान होगा और पूंजीपति एवं व्यापारी आपका शोषण करेंगे, इसलिए अभी समय है जाग जाएं अन्यथा मोदी सरकार आपको कहीं का नहीं छोड़ेगी। देश भर से धीरे-धीरे मंडियां समाप्त कर दी जाएंगी और व्यापारी किसानों की मजबूरी का फायदा उठाकर अपने मनमाफिक फसल को खरीदेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली बॉर्डर पर लाखों की संख्या में किसान एवं उनके परिवार की महिलाएं पिछले 40 दिन से कड़कड़ाती ठंड में शांति पूर्वक अपना विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं और इस दौरान 50 से अधिक किसानों ने शहादत दे दी है, उसके बाद भी केंद्र में बैठी मोदी सरकार हठधर्मिता एवं बेशर्मी पर अड़ी हुई है। अब देश के प्रत्येक प्रदेश से किसान जागरूक होकर दिल्ली पहुंच रहे हैं और अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसानों की मौत पर अभी तक कुछ नहीं बोले, लेकिन पूंजीपतियों को जरा सा नुकसान पहुंचने पर बयान देने लगे, इससे साबित होता है कि मोदी सरकार किसान व गरीब हितैषी नहीं है, केवल पूंजीपतियों का भला चाहती है। कार्यक्रम को प्रदेश कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष रामनिवास रावत, दिमनी विधायक रविंद्र सिंह तोमर, सुमावली विधायक अजब सिंह कुशवाह, सबलगढ़ विधायक बैजनाथ कुशवाह आदि ने भी संबोधित किया। 
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के आह्वान पर जिले भर के प्रत्येक गांव से किसान बड़ी संख्या में इस आयोजन में पहुंचे और मोदी सरकार को जमकर कोसा। 
पूर्व विधायक श्री सिकरवार ने बताया कि 26 जनवरी को जिले की प्रत्येक तहसील पर किसान गांव वहां से ट्रैक्टर ट्रॉली लेकर मार्च करेंगे और मुख्यालय पर आएंगे तथा इस दौरान धरना प्रदर्शन गांधीवादी तरीके से शांति पूर्वक किया जाएगा। 
इस दौरान मंच पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता रक्षपाल सिंह तोमर, भगवान सिंह तोमर, कार्यकारी जिलाध्यक्ष विष्णु अग्रवाल, शहर अध्यक्ष दीपक शर्मा, हरि सिंह सिकरवार एडवोकेट, अशोक भदौरिया, भानु प्रताप सिंह सिकरवार, राकेश परमार, किसान कांग्रेस जिला अध्यक्ष प्रमोद शर्मा हुसैनपुर, विक्रमराज मुदगल, मनीष उपाध्याय, संजय मिश्रा एडवोकेट, रविंद्र मावई, कौशल पंडित, भूपेंद्र तोमर, अजीत सिकरवार, राम लखन दंडोतिया, हृदेश शर्मा, कुणाल उपाध्याय, सौरभ सोलंकी, विनोद कुमार, सुरेन्द्र बरेलिया, सेगर सैमिल, मनीष चौवे, विनोद कुमार सहित भारी संख्या में कांग्रेस जन एवं किसान उपस्थित थे।

Like & Share

अन्य खबरे

Epaper

Epaper

लाइव पोल

2019 में कौन होंगे प्रधानमंत्री?

नरेन्द्र मोदी
राहुल गांधी
अर्विन्द केजरिवाल