पीएम शेख हसीना ने की 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान की तारीफ, विदेश मंत्री ने वार्ता को बताया सफल

Publish Date : 18 / 12 / 2020

ढाका. बांग्लादेश (Bangladesh) के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन (Foreign Minister AK Abdul Momen) ने गुरूवार को कहा कि प्रधानमंत्री शेख हसीना (Prime Minister Sheikh Hasina) भारतीय समकक्ष पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के बीच हुई वार्ता के नतीजों से ढाका खुश हैं. शेख हसीना ने भारत में कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई और ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ जैसा कदम उठाने के लिए पीएम मोदी के नेतृत्व की काफी तारीफ की. मोमेन ने कहा कि शिखर वार्ता सफल रही है और बांग्लादेश इनके नतीजों से आश्वस्त है.

हसीना ने गुरूवार को मोदी के साथ संयुक्त रूप से भारत-बांग्लादेश ऑनलाइन शिखर बैठक की. मोमेन ने संवाददाताओं से कहा, 'हमने भारत के साथ हर तरह के मुद्दे उठाए, जो भारत के साथ हमारे (मुद्दे) हैं...शिखर बैठक बहुत अच्छी रही (और) हम खुश हैं.' उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री मोदी ने बैठक में आश्वस्त किया कि वह भारतीय सीमा प्रहरियों से कहेंगे कि वे घातक हथियारों का इस्तेमाल नहीं करें.' उधर हसीना 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान के प्रति काफी जागरूक नज़र आयीं. उन्होंने इसे मील का पत्थर बताया और कहा कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लागू की गई नीतियों के माध्यम से भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था में अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा. उन्होंने कहा कि कोरोनाकाल में मोदी सरकार का दिया आर्थिक पैकेज भारत को आत्मनिर्भर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और इससे मजदूरों, किसानों, ईमानदार कारदाताओं, एमएसएमई और कुटीर उद्योगों को लाभ होगा.

मोदी ने कोरोना से निपटने में सूझ-बूझ दिखाई
दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाले और महामारी से प्रभावित देश में कोविड-19 को नियंत्रित करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तरीकों की तारीफ करते हुए हसीना ने कहा, 'आत्मनिर्भर अभियान के तहत आपके नेतृत्व में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए पैकेज के अलावा आर्थिक पैकेज भी दिया गया.' भारत और बांग्लादेश ने अपसी सहयोग को गति देते हुए गुरूवार को हाइड्रोकार्बन, कृषि, कपड़ा और सामुदायिक विकास जैसे विविध क्षेत्रों में सात समझौतों पर हस्ताक्षर किये. दोनों देशों ने सीमापार चिलाहाटी-हल्दीबाड़ी रेल सम्पर्क को बहाल किया जो 1965 तक परिचालन में था.
पीएम मोदी ने भी ‘पड़ोस प्रथम’ की नीति का भरोसा दिया
इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश को ‘पड़ोस प्रथम’ नीति का प्रमुख स्तम्भ बताते हुए कहा कि बांग्लादेश के साथ संबंधों में मजबूती और गहराई लाना उनकी विशेष प्राथमिकता रही है तथा कोविड-19 के कठिन समय में दोनों देशों के बीच अच्छा सहयोग रहा है. शेख हसीना ने भारत को अपने देश का ‘सच्चा मित्र’ करार देते हुए पाकिस्तान के खिलाफ 1971 के मुक्ति युद्ध में समर्थन देने के लिये भारत का आभार जताया. दोनों देशों के बीच चिलाहाटी-हल्दीबाड़ी रेल सम्पर्क को बहाल करने से असम और पश्चिम बंगाल से बांग्लादेश के लिये सम्पर्क को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है. यह कोलकाता से सिलीगुड़ी के बीच 1965 तक मुख्य ब्राडगेज सम्पर्क का एक हिस्सा था.
मोदी और हसीना ने संयुक्त रूप से बांग्लादेश के संस्थापक मुजीबुर रहमान और महात्मा गांधी पर एक डिजिटल प्रदशर्नी का उद्घाटन किया. इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, 'बांग्लादेश हमारी ‘पड़ोस प्रथम’ नीति का एक प्रमुख स्तम्भ है. बांग्लादेश के साथ संबंधों में मजबूती और गहराई लाना मेरे लिए पहले दिन से ही विशेष प्राथमिकता रही है.' उन्होंने कहा कि यह बात सही है कि वैश्विक महामारी के कारण यह वर्ष चुनौतीपूर्ण रहा है. लेकिन संतोष की बात है कि इस कठिन समय में भारत और बांग्लादेश के बीच अच्छा सहयोग रहा.

Like & Share

अन्य खबरे

Epaper

Epaper

लाइव पोल

2019 में कौन होंगे प्रधानमंत्री?

नरेन्द्र मोदी
राहुल गांधी
अर्विन्द केजरिवाल