स्वच्छ भारत मिशन की खुलेआम आम उड़ाई जा रही है धज्जियां

Publish Date : 20 / 11 / 2020

बमीठा
विश्व पर्यटन नगरी खजुराहो के मुख्य मार्ग बमीठा में  स्वच्छ भारत मिशन को लेकर भारी लापरवाही देखने को मिल रही है ..यहां से पर्यटक देश के कोने-कोने के लिये बसें पकड़ते हैं और बस स्टाफ पर कोई पेयजल की व्यस्तता तक नही हैं ।जबकि यहाँ पर यात्री प्रतिक्षालय की स्थिति देखी जाए तो यहां पर जानवर तक बैठने को कतराते हैं।
स्थानीय प्रशासन फाइलों में मात्र सफाई अभियान का कार्य कर रहे
गंदगी के ढेर के बगल में यात्री प्रतीक्षालय है जिससे लोगों को गंदी बदबू आने से लोग नही बैठ पाते हैं, यह दिल्ली-मुंबई  के जाने का एकमात्र रास्ता है जो पर्यटन नगरी खजुराहो का मुख्य द्वार माना जाता है। पन्ना नेशनल पार्क के पर्यटक यहीं से गुजरते हैं जो गंदगी के कारण उन्हें निकालने में भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है यहां।
यहां के स्थानीय प्रशासन फाइलों में मात्र सफाई अभियान का कार्य कर रहे हैं जबकि जमीनी हकीकत यह है कि सफाई कार्य न के बराबर होता हैं। जब हमने इस संबंध में स्थानीय लोगों से बात की तो कुछ लोगों ने सरपंच के खिलाफ बोलने से इनकार किया उन्होंने बताया कि अगर हम कुछ बोलते हैं तो स्थानीय प्रशासन हमारे कार्य में बाधा डालेगा, फिर बड़ी मुश्किल से कुछ लोगों ने हिम्मत दिखाकर हमें बताया कि यहां पर सफाई महिनो मे  केवल एक दिन किया जाता है और हमें इस गंदगी का सामना करना हमारी मजबूरी हैं ।
बमीठा ग्राम में सफाई
 सिर्फ शोपीस मात्र है
एक और कोरोना जैसी महामारी और गन्दगी से होने बाली अन्य बीमारियां और दूसरी ओर दीपावली का त्यौहार नजदीक है और हर घर में साफ-सफाई, रंग-रोगन का काम चल रहा है। ऐसे में हर घर से कचरे व पुराने सामान के ढेर निकल रहे हैं। लोग इस कचरे को घर के बाहर सड़क किनारे फेंक रहे हैं। घर-घर में चल रही त्योहारी सफाई मुहिम से शहर में कचरा-गंदगी बढ़ने लगी है। कॉलोनी-मोहल्लों से लेकर मुख्य सड़कों के किनारे जगह-जगह कचरे के ढेर नजर आ रहे हैं।और बमीठा ग्राम में सफाई सिर्फ शोपीज मात्र है
स्वच्छ भारत मिशन खुलेआम धज्जियां उड़ाना प्रशासन के अधिकारियों की आदत
अब देखना यह है कि खबर दिखाने के बाद स्थानीय प्रशासन अपनी जिम्मेदारी निभाता है या नही।जबकि  देश के प्रधानमंत्री पर संदेश स्वच्छ भारत मिशन खुलेआम धज्जियां उड़ाना प्रशासन के अधिकारियों की आदत में है या फिर दीवारों पर स्वच्छ भारत मिशन के नारे लिखने मात्र से ही भारत स्वच्छ हो पाएगा या नहीं स्वच्छ भारत मिशन पर केंद्र सरकार करो रुपए बर्बाद कर चुकी है और आज जमीन में स्वच्छता की बात देखें तो ना के बराबर है या जनता का पैसा कैसे बर्बाद करते इसका खामयाजा स्थानीय शासन भुगतना पड़ेगा।

Like & Share

Epaper

Epaper

लाइव पोल

2019 में कौन होंगे प्रधानमंत्री?

नरेन्द्र मोदी
राहुल गांधी
अर्विन्द केजरिवाल