नहीं बचाया जा सका बोरवेल में फंसे प्रहलाद को, 90 घंटे तक फंसा रहा मासूम

Publish Date : 08 / 11 / 2020


भोपाल
बोरवेल में फंसे 4 वर्षीय मासूम प्रहलाद को आखिरकार बचाया नहीं जा सका। तकरीबन 90 घंटे तक बोरवेल में फंसे रहे बालक को शनिवार-रविवार दरमियानी रात 3 बजे उसे बाहर निकाला गया। यह घटना मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले में पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के जेतपुरा गांव की है। मासूम को बोरवेल से निकालने के बाद उसे रेस्क्यू टीम अस्पताल लेकर पहुंची जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। करीब 90 घंटे से प्रहलाद बोरवेल में फंसा रहा। प्रहलाद की सकुशल वापस निकलने का इंतजार कर रहे माता-पिता और परिवार के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है। सूचना मिलने के बाद गांव में मातम पसर गया है। बोरवेल में फंसे मासूम को निकालने की तैयारी पूरी होने के बाद प्रशासनिक अधिकारियों ने मोर्चा संभाल लिया था। शनिवार को सुबह से ही सुरंग बनाने का कार्य तेजी से चल रहा था। दोपहर करीब 12 बजे अधिक पानी सुरंग से आने के बाद कार्य को रोका गया ओर पानी की निकासी पंपों के माध्यम से की गई। जेसीबी और एलएनटी मशीनों द्वारा खुदाई की गई वहीं बीना रिफाइनरी से आईं हुईं सुरंग बनाने की मशीनें सुरंग बनाने के कार्य में जुटी रही। प्रशासन और पुलिस के अधिकारी ही वहां पर मौजूद रहे।
सरकार परिवार को 5 लाख की सहायता देगी
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निवाड़ी जिले के सैतपुरा ग्राम में बोरवेल में फंसे बालक प्रहलाद के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए दु:खी परिवार को सांत्वना दी है तथा कहा है कि दु:ख की इस घड़ी में पूरा प्रदेश उनके साथ खड़ा है। सरकार की ओर से परिवार को 5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। साथ ही उनके खेत में नया बोर करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति न हो इसके लिए आवश्यक है कि हम अपने खेत में कोई भी बोर खुला न छोड़ें। इस तरह की थोड़ी सी लापरवाही से पहले भी कई मासूमों की जान जा चुकी है।

Like & Share

Epaper

Epaper

लाइव पोल

2019 में कौन होंगे प्रधानमंत्री?

नरेन्द्र मोदी
राहुल गांधी
अर्विन्द केजरिवाल