Chhattisgarh Incom Tax Raid : मुख्यमंत्री सचिवालय की उपसचिव सौम्या के घर पांचवें दिन भी कार्रवाई जारी

Publish Date : 02 / 03 / 2020

रायपुर/भिलाई । छत्तीसगढ़ में आयकर छापे के पांचवे दिन सोमवार को मुख्यमंत्री सचिवालय की उप सचिव सौम्या चौरसिया के घर आयकर की टीम जांच कर रही है। सौम्या चौरसिया के निज निवास पहुँचने के बाद आज सुबह आयकर विभाग के अधिकारी भी दुबारा पहुँच गए। आईटी की टीम अपने साथ बैंक के अधिकारियों को भी लेकर पहुँची है।

जुनवानी के सूर्या रेसीडेंसी स्थित घर की सील तोड़कर जाँच शुरू कर दी गई है। गौरतलब है कि छापामार कार्रवाई के दौरान चौरसिया के घर पर उपस्थित नहीं होने पर आयकर अफसरों ने मकान को सील कर बाहर पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों को तैनात कर दिया था। करीब 54 घंटे बाद सौम्या अपने घर पहुंची और आयकर अफसरों से दूरभाष पर संपर्क किया।

गौरतलब है कि आयकल विभाग की टीम ने तीन दिन पहले सौम्या चौरसिया के घर पर दबिश दी थी। घर पर ताला लगे होने के कारण अधिकारी अंदर प्रवेश नहीं कर पाए थे। इस दौरान दिन और रात अधिकारी सौम्या चौरसिया के घर पर ही मौजूद रहें। लेकिन मौके पर किसी के नहीं पहुँचने के बाद मकान को सील कर दिया गया था। रविवार की दोपहर में सौम्या चौरसिया अपने घर पहुँचीं और आईटी के अधिकारियों से बात की थी. अधिकारियों ने सोमवार सुबह आने की सूचना दी थी.

जिले में तीन दिनों तक कार्रवाई करने के बाद आयकर विभाग के अधिकारियों के लौटते ही नाटकीय घटनाक्रम हुआ। 30 घंटे के इंतजार के बाद जब मुख्यमंत्री सचिवालय की उप सचिव सौम्या चौरसिया के बारे में कोई जानकारी नहीं हुई तो तब आइटी की टीम ने उनके सूर्या रेसीडेंसी जुनवानी स्थित बंगले को सील कर दिया।

टीम के जाने के कुछ घंटे बाद सौम्या चौरसिया के पति सौरभ मोदी अपने बंगले पर पहुंचे और सील को देखकर आश्चर्य व्यक्त किया। उन्होंने मीडिया से बात की और आयकर विभाग की कार्रवाई और मंशा पर ही सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि उनकी पत्नी सीएम की करीबी हैं, इसी के चलते आइटी की रेड पड़ी है।

गौरतलब है कि गुरुवार को आयकर विभाग की छत्तीसगढ़ में दस्तक हुई थी। टीम ने आबकारी विभाग के ओएसडी अरुण पति त्रिपाठी के सेक्टर-9 स्थित बंगले पर दबिश दी थी। वहां पर जांच करने के दौरान ही टीम की दूसरी टुकड़ी जुनवानी रोड स्थित सूर्या रेसीडेंसी में सौम्या चौरसिया के बंगले पर पहुंची।

हालांकि जिस समय आइटी की टीम सौम्या चौरसिया के घर पर पहुंची थी, वहां पर कोई नहीं था। घर बंद होने के कारण आइटी के अधिकारी करीब 30 घंटे तक बरामदे में ही डटे रहे। शनिवार की शाम को बंगले को सील करने के बाद टीम के अफसर वहां से वापस लौट गए थे।

Like & Share

Epaper

Epaper

लाइव पोल

2019 में कौन होंगे प्रधानमंत्री?

नरेन्द्र मोदी
राहुल गांधी
अर्विन्द केजरिवाल